Happy Scribe Logo

Transcript

Proofread by 0 readers
[00:00:01]

टीएसएस लॉक ओडियो एक्सपीरियंस। हैलो मेरे चुलबुले दोस्तों मैं हूं आशा। फिर लेकर आई हूं चुलबुली टेल्स चुलबुली टेल्स। हम 3 दादी नानी का ग्रुप है जो आपके लिए लाते हैं मजेदार कहानियों का खजाना। चुलबुली टाइल्स के खजाने में से आज की कहानी है मेहनत का महत्व। बच्चों आज की कहानी है रोहन की। रोहन एक प्यारा सा बच्चा था समझदार बच्चा। बस एक कमी थी उसमें।

[00:00:37]

पढ़ाई के मामले में मेहनत करने से वह जी चुराता था।

[00:00:42]

एक बार रोहन का मनपसंद कप टूट गया। वह कुछ उदास था तो मां ने उसे खुद जाकर बाजार से एक अच्छा खुद की पसंद का कप लाने के लिए कहा। रोहन को माने पहली बार अकेले कुछ डिसीजन लेने की छूट दी थी।

[00:01:01]

वह मन ही मन खुश था कि चलो इसी बहाने उसे बाहर जाने का मौका मिलेगा और हां उतनी देर कोई उसे पढ़ने के लिए भी नहीं कहेगा। मैं तुरंत पास ही के मार्केट में पहुंचा और इधर उधर खोजने लगा अपनी पसंद का कप। पर वह जो भी काम उठा रहा था उसे कोई न कोई कमी नजर आ रही थी। हां किसी की डिजाइन अच्छी नहीं थी तो कोई बहुत ही छोटा था।

[00:01:29]

किसी का कलर आ और उसे पसंद नहीं आ रहा था।

[00:01:33]

कोई बहुत ही नाजुक सा था। बहुत खोजने पर भी वह कुछ निश्चय नहीं कर पाया तो मायूस मन से घर लौटने लगा। मां के साथ आकर ही कप खरीदना बेहतर होगा यही सोचकर। तभी उसे सामने की शेल्फ पर एक लाल रंग का कब दिखाई दिया।

[00:01:53]

वाह कितना खूबसूरत और उसकी चमक तो देखो। शानदार और रोहन झट से दुकानदार से वह कप लेकर हाथ में देखने लगा। कब वह वाकई में बहुत अच्छा था उसकी मजबूती उसकी चमक उसकी शानदार डिजाइन हर चीज परफेक्ट थी।

[00:02:13]

रोहन ने वह कब खरीद लिया अब वह बहुत खुश था मनपसंद कब्जा मिल गया था उसे रात को भी वह कप को अपने हाथ में लेकर बिस्तर पर लेट गया और देखते देखते उसे नींद आ गई। गहरी नींद अचानक उसे एक आवाज सुनाई दी।

[00:02:33]

रोहन रोहन रोहन ने देखा वह कप उसी को पुकार रहा था।

[00:02:40]

कप ने कहा रोहन मैं जानता हूं कि मैं तुम्हें बहुत पसंद हूं पर पता है।

[00:02:48]

मैं पहले ऐसा नहीं था।

[00:02:50]

रोहन आश्चर्य चकित था अरे अच्छा तो फिर बताउं तुम कैसे थे पहली।

[00:02:58]

अरे एक समय था जब मैं मामूली सी मिट्टी था पर एक दिन एक स्टूडियो पॉटर मुझे अपने स्टूडियो में ले गया।

[00:03:08]

उसने मुझे जमीन पर पटक दिया और मेरे ऊपर पानी डालकर मुझे जोर जोर से मसलने लगा।

[00:03:16]

मैं चिल्लाया बस करूं बस करूं। लेकिन मैं कहता रहा अभी और अभी और मुझे बहुत तकलीफ हो रही थी। अंत में जब वह रुका तो मुझे लगा बस जो होना था हो गया अब मैं ठीक हूं। मगर यह क्या।

[00:03:34]

उसने मुझे उठाकर एक घूमते हुए वील पर पटक दिया।

[00:03:40]

वह भी इतनी तेजी से घूम रहा था कि मेरा तो सर ही चकरा गया। मैं फिर चिल्लाया हम बस अब बस मुझे चक्कर आ रहे हैं। पर वह पोर्टर वह कहता रहा अभी और अभी आया और वह साथ ही अपने हाथ से मुझे आकार भी देता रहा जब तक कि मैं एक कप के शेप में नहीं आ गया। सच कहूं अभी तक तो मुझे बुरा लग रहा था लेकिन अब मैं खुश था। चलो इतनी उठा पटक सहने के बाद अब मैं अपने जीवन में कुछ बन गया हूं वरना मैं तो सिर्फ मिट्टी था। लेकिन मेरी खुशी थोड़ी ही देर की थी।

[00:04:23]

अभी तो और तकलीफ सहना लिखा था जीवन में डॉक्टर ने मुझे उठाकर अवन में डाल दिया। अब मैंने अपने जीवन में कभी इतनी गर्मी नहीं सही थी। लगा मैं वहीं जलकर खाक बन जाऊंगा। राख बन जाऊंगा। मैं एक बार फिर चिल्लाया मुझे बाहर निकालो प्लीज अब बस करो अब बस करो मगर पॉटर वह फिर वही बोला अभी और अभी और और बहुत देर बाद मुझे अवन में से निकाल दिया गया और अब अब मैं हैरान था खुद को देखकर हैरान।

[00:05:02]

मेरी ताकत कई गुना बढ़ गई थी। पॉटर भी खुश था उसने मुझे रेड कलर के ग्लेज में रंग दिया और मैं इस शानदार रूप में आ गया। सचमुच उस दिन मुझे खुद पर इतना गर्व हो रहा था जितना पहले कभी नहीं हुआ। पर ये भी तो सच है। पहले मैंने इतनी मेहनत ही नहीं की थी।

[00:05:26]

इतनी तकलीफ ही नहीं सही थी लेकिन आज जब मैं खुद को देखता हूं तो मुझे लगता है मेरी मेहनत मेरा संघर्ष बेकार नहीं गया। मैं कैसे स्तर उठा के खड़ा हूं। मैं दुनिया के सबसे अच्छे कपड़ों में से एक हूं। रोहन सब कुछ ध्यान से सुन रहा था। जैसे ही कप की बातें पूरी हुई रोहन की भी आंख खुल गई। सपने से ही सही रोहन समझ गया था मेहनत का महत्व। उसने तय किया कि अब वह कभी भी मेहनत से दूर नहीं भागेगा और अपने टीचर्स और अपने पैरंट्स सब की बातों को समझेगा मानेगा। बच्चों कैसी लगी आपको लाल कप की आत्म कथा और क्या आपने समझा मेहनत का। संघर्ष का महत्व बड़ों ने भी कहा है बच्चों मैरीज नोट सब इंस्टीटय़ूट टू हार्डवर्क। तो अब से चाहे पढ़ाई हो खेल हो या कोई और भी चीज आप मेहनत से जी नहीं चढ़ाएंगे। प्रॉमिस।

[00:06:36]

आज की कहानी कैसी लगी बच्चा। फिर नई कहानी के साथ जल्दी मिलेंगे। चुलबुली टेल्स की मजेदार कहानियों को सुनते रहने के लिए आईपीएल और मीडिया वैबसाइट पर या अपने फेवरेट स्ट्रीमिंग जैसे कि जीव सावन गाना गूगल पॉडकास्ट स्पोर्टी फाइट जरूर सब्सक्राइब करें ताकि आपको हमारी नई कहानियों के नोटिफिकेशन मिलते रहें तो जुड़े रहिए। जंगली टेल्स के साथ।